तीन महीने की सजा काटकर जेल से बाहर आए राजपाल यादव, आते ही बयां किया अपना दर्द

By | March 29, 2019

Rajpal yadav lost ekta kapoor film dream girl after went jail: राजपाल यादव पर 5 करोड़ का लोन ना चुकाने का आरोप था। जिसके कारण उन्हें दिल्ली हाईकोर्ट ने तीन महीने की सजा सुनाई थी।

मुंबई. राजपाल यादव अपनी तीन महीने की सजा काटकर लौट चुके हैं। अब उन्होंने अपना दर्द बयां किया है और कहना है,”मुझे लगता है कि मैंने लोगों पर कुछ ज्यादा ही विश्वास कर लिया और लोगों ने उनके विश्वास का गलत फायदा उठा लिया। हालांकि मैं इस पर कुछ नहीं कहना चाहूंगा। मैं बस आगे की ओर बढ़ता रहना चाहता हूं क्योंकि अभी जिंदगी से बहुत कुछ मिलना बाकी है।” दरअसल, राजपाल यादव पर 5 करोड़ का लोन ना चुकाने का आरोप था। जिसके कारण उन्हें दिल्ली हाईकोर्ट ने तीन महीने की सजा सुनाई थी। अब जेल से लौटने के बाद उन्होंने खुलकर बात की। हाथ से निकल गई ‘ड्रीम गर्ल’…

रिपोर्ट्स के मुताबिक, राजपाल यादव के जेल जाने से प्रोड्यूसर एकता कपूर की फिल्म ‘ड्रीम गर्ल’ उनके हाथ से निकल गई। खबरों की मानें तो इसमें वे मुख्य भूमिका निभा रहे थे। फिल्म में उनके अलावा आयुष्मान खुराना लीड रोल निभा रहे हैं। राजपाल ने फिल्म पर काम शुरू कर दिया था। लेकिन जेल जाने के कारण इसकी शूटिंग पूरी नहीं कर पाए। बाद में ‘स्त्री’ मूवी के एक्टर अभिषेक बनर्जी ने उन्हें रिप्लेस कर दिया। 

आपकमिंग प्रोजेक्ट को लेकर काफी उत्साहित हैं

राजपाल यादव का अपकमिंग फिल्मों को लेकर कहना है, ‘मैं जल्दी ही सूरज पंचौली और इसाबेल कैफ के साथ ‘टाइम टू टाइम डांस’ फिल्म की शूटिंग शुरू करूंगा। फिल्म के कुछ हिस्से की शूटिंग हो चुकी है और बाकी के भी पार्ट की शूटिंग जल्दी ही खत्म कर देंगे। यह पहले ही पूरी हो जाती। मैं फिल्म मेकर्स का आभारी हूं जिन्होंने मेरा वापस लौटने का इंतजार किया।’  इसके साथ ही उन्होंने आगे बताया कि वे ‘जाको राखो साइयां’ का भी सारा शेड्यूल पूरा कर रहे हैं। वहीं वे डेविड धवन और प्रियदर्शन के साथ अगली फिल्म के लिए बातचीत कर रहे हैं और अब फिल्म के सेट पर जाने के लिए काफी उतावले हैं।

जेल में चलाते थे ‘राजपाल की पाठशाला’

राजपाल ने अपने जेल के दिनों को भी शेयर किया। उनका कहना है, “जेल का डिसिप्लिन काफी कठिन है। हमें वहां के सभी रूल को फॉलो करना होता था। मैं बाकी कैदियों से भी बात करने की कोशिश करता था। मैं उनसे बात करने के लिए एक सेसन रखता था जिसका नाम  ’राजपाल की पाठशाला’ रखा गया था। मैं रोज एक्ससाइज करता था और वहां लाइब्रेरी में जाकर बैठता और पढ़ता था।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.